मेरे भाई के गंदे ख्याल – 2

desi porn kahani, antarvasna

जैसा की आप लोगो ने अभी तक आप लोगो ने पढ़ा –

रात के करीब 1 बजे मेरी नींद खुली तो देखा कि मेरा भाई वहां नहीं था | तो मुझे लगा शायद चला गया होगा दूसरे कमरे में | मुझे बहुत जोर से बाथरूम लगी थी तो मैं बाथरूम की तरफ गई और देखा कि लाइट जल रही है | जब मैं पास गई तो मुझे कुछ आवाज़ आ रही थी | वो आवाज़ किसी और की नहीं बल्कि मेरे भाई कि थी और वो कह रहा था आहा मेरी जान अभिलाषा हाय क्या माल है आहा ऊउंह तुझे तो कुतिया बना कर चोदूंगा आहा | उसकी ऐसी बाते सुन कर मुझे बहुत गुस्सा आया पर रात का समय था थोडा मन मेरा भी हुआ | मैंने दरवाजे के छेद से अन्दर देखा तो भाई का 8 इंच का लम्बा लंड मेरी आँखों के सामने था और वो उसे जोर जोर से हिला रहा था | उसके इतने बड़े लंड को देख कर मेरी चूत में हलचल होने लगी | मेरे दिल की धड़कने तेज होने लगी और मेरे शरीर में एक अजीब सी कसक होने लगी और साथ ही उत्तेजना होने लगी | अब आगे –

मैंने अपने भाई के प्रति कभी ऐसी फीलिंग्स नहीं लाइ थी जैसी अब आ रही थी मुझमे | मुझे एक अलग ही आभास हो रहा था और मेरे भाई से चुदवाने की इच्छा अपने आप जाग रही थी | मेरी समझ में कुछ नहीं आ रहा था और मैं चुदासी हो रही थी | वही मेरा भाई आहा ऊंह अभिलाषा तुझे चोदना है तुझे मेरे बच्चे की माँ बनाना है तुझे खूब चोदूंगा बस एक बार मुझसे अपनी चूत चुद्वाले | ये सुन सुन कर अब मेरा मन भी चुदाई करने का होने लगा था | मेरी चूत से पानी रिश्ने लगा था और मैं बेकाबू हो रही थी | तभी उसने आहाआ करते हुए अपने वीर्य को झड़ा दिया | उसके वीर्य को देख कर मैं और ज्यादा उत्तेजित हो गई | उसके निकलने से पहले मैं अपने रूम में जा कर जल्दी से सोने का बहाना करने लगी | ऐसे ही लेटे लेटे मेरी नींद ही लग गई | अगली सुबह जब मैं उठी तो वो नहीं दिखा मुझे | मुझे रात को वो सब याद आ रहा था और अब मैं उस पर गुस्सा नहीं बस प्यार दिखाना चाह रही थी | मैं नीचे गई तो देखा कि वो सोफे पर बैठ कर टीवी देख रहा था | मैंने बिना कुछ बोले नीचे आई और किचन में जा कर पानी पीने लगी | पानी पीने के बाद मैंने ब्रश किया और नहा कर पूजा की | ये मेरी रोज की आदत है | फिर मैं पूजा कर के किचन में जा कर नाश्ता बनाने लगी | तब तक भाई भी नहा कर एक फ्रेश हो गया था | मैंने उसे आवाज़ दे कर नाश्ता करने के लिए बुलाया | तो उसने कहा दीदी आप रख दो मैं अभी आता हूँ | मैंने कहा ठीक है |

मैं नाश्ता करने लगी और 5 मिनट के बाद वो भी आ गया नाश्ता करने के लिए | मैंने सोचा कि क्यूँ न इसे पटा कर चुदवाया जाए | क्यूंकि कल का सीन अभी तक मेरे दिमाग से नहीं निकला था और मैं चाहती थी कि अब मैं अपने भाई से चुद्वाऊ उस ब्लू फिल्म में जैसे एक बहन अपने छोटे भाई से चुद्वाती है | मैंने उससे पुछा कि कल रात मेरी नींद खुली थी तू दिखा नहीं दूसरे दूसरे कमरे में सो रहा था क्या ? वो एक दम से घबरा गया | उसने कहा हाँ दीदी आपने कहा था ना इसलिए मैं चला गया था | मैंने मन ही मन कहा साले अपनी बड़ी बहन के नाम की मुट्ठ मारता है और झूट बोल रहा है मुझसे | मैंने बनते हुए कहा अच्छा चल ठीक है | ये कह कर मैंने उसे जाने दिया | दो दिन तो ऐसे ही निकल गए और हमारे पास बस 6 दिन ही बचे हुए थे | अब मैं उसके सामने झुक कर झाड़ू या पोछा करती ताकि उसे मेरे मम्मों के दर्शन हो सके | मैं उसके सामने अपनी चूतड मटका मटका कर चलती और वो अपना लंड मसल कर रह जाता |

मैं उसे ये समझाना चाहती थी कि वो समझ जाये कि अब उसकी बड़ी बहन उससे चुदवाने को तैयार है और चाह रही है कि तू पहल करे | अब वो दिन भी आ ही गया जिसका मुझे इन्तेजार था | एक रात खाना खाने के बाद मैं और मेरा भाई हम दोनों हॉलीवुड मूवी देख रहे थे जिसका नाम बेसिक इन्स्सित था | उसमे कुछ गंदे सीन आते तो मैं बड़े ही मजे ले कर देखती और वो मुझे देखा | अब धीरे धीरे मैं गरम होने लगी तो मैंने उससे कहा कि चल तू मूवी देख मैं सोने जा रही हूँ | उसने कहा ठीक है दीदी | मैं ऊपर जा कर सोने लगी और मुझे मालूम था कि ये जरुर मेरे नाम की मुट्ठ मरेगा और मेरा नाम लेगा | मैं करीब दस मिनट के बाद वापस आ गई और जैसा कि मैंने कहा था कि ये मेरे नाम की मुट्ठ मारेगा वो ठीक यही कर रहा था | मैंने भी देर न करते हुए सीधे जा कर उसके लंड को अपने हाँथ से पकड़ ली और नाटक करते हुए कहने लगी तू फिर से ये सब करने लगा | मैंने तुझे मना किया था न ? तो वो एक दम से झेंप गया और कहने लगा दीदी सॉरी दीदी मुझे माफ़ कर दो | मैंने कहा अब तुझे माफ़ी नहीं मिलेगी और मैं जा रही हूँ पापा को बताने कि ये ऐसी ऐसी हरकत करता है | ये बात सुन कर उसके पसीने छूटने लगे और उसका लंड भी डर के कारण छोटा हो गया | मैं फ़ोन की तरफ जाने लगी तो उसने मुझे पीछे से पकड़ लिया | उसका लंड मेरी गांड की दरार से टकरा रहा था और वो मेरे दोनों दूध को पीछे से ही पकड़ा रहा |

मुझे अच्छा लग रहा था और मैं झूटमूट का नाटक कर रही थी | उसने मुझे घसीट कर दिवार के सहारे टिका दिया और कहने लगा दीदी प्लीज मत बताओ न प्लीज दीदी | मैंने कहा तू मुझे छोड़ बहुत कास कर दबा रखा है | उसने कहा दीदी पहले आप कहो कि आप नहीं बताओगी तभी मैं आपको छोडूंगा | मैंने कहा ठीक है नहीं बताउंगी | फिर जैसे ही उसने अपनी पकड़ ढीली किया मैं तुरंत उसके चंगुल से आजाद होने की कोशिश की पर उसने फिर से मुझे कास कर पकड़ लिया | अब हम दोनों एक दूसरे के एक दम करीब थे और हम दोनों की साँसे एक दम तेज होने लगी थी | मैं भी शांत खड़े हो कर उसे देख रही थी और वो भी | फिर उसने अपने होंठ मेरे होंठ में रख दिया और मेरे होंठ को दबा कर चूसने लगा | मुझे भी अच्छा लग रहा था और मैं भी उसका साथ देते हुए उसके होंठ को चूसने लगी | उसने मुझे अब आजाद कर दिया क्यूंकि वो समझ चुका था कि मैं नहीं मना करुँगी | वो मेरे होंठ को चूसते हुए मेरे मम्मों को भी दबा रहा था और मैं भी उसके होंठ को चूसते हुए उसके बदन को सहलाने लगी | हम दोनों ने करीब 15 मिनट तक एक दूसरे के होंठ का स्वाद लिया | उसके बाद उसने मेरे टॉप को निकाल दिया और मेरे ब्रा के ऊपर से ही मेरे मम्मों को दबाने लगा तो मेरे मुंह से आहा ऊंह आऊं आम आआ की हलकी सिस्कारियां निकलने लगी | उसने जरा भी देर नहीं किया और मेरे ब्रा को भी निकाल कर मेरे दोनों कबूतरों को आजाद कर दिया |

कुछ देर तक वो मेरे मम्मों को अपने हाँथ में ले कर देखने लगा तो मैंने पुछा क्या देख रहा है ? तो उसने कहा दीदी रोज मैं बस इसको छूने के सपने देखा करता था आज मिल रहा है तो बड़ा ही मजा आ रहा है | मैंने कहा कि चल चूस ले | वो मेरे एक मम्मे को अपने मुंह में ले कर चूसने लगा और दूसरे मम्मे को दबाने लगा | उसके ऐसे करने से मेरे मुंह से मादक सिसकियाँ निकलने लगी | उसको मेरी सिसकियों से ज्यादा उत्त्जेना होने लगी तो उसने मेरे दोनों मम्मों को जोर जोर से अपने मुंह में ले कर चूसने लगा और मैं आहा ऊंह ऊम्ह आहाहा उन्ह उमह करते हुए सिसक्र्याँ लेने लगी | मैंने कहा भाई अब मुझसे रहा नहीं जाता जल्दी से मेरी चूत में अपना लंड घुसेड कर चोद दे | फिर हम दोनों जल्दी नंगे हो गए और उसने मुझे लेटा कर अपने लंड को एक ही धक्के में अन्दर डाल कर चोदने लगा | मैं भी अपनी कमर उठा उठा क्र चुदाई में साथ देने लगी | फिर उसने अपनी चुदाई की रफ़्तार बढ़ा दिया और जोर जोर से मेरी चूत को बेरहमी से चोदने लगा | मैं सिस्कारियां लेते हुए उसके गाली भी दे रही थी | उसने करीब मेरी चूत को आधे घंटे तक चोदा और फिर मेरी चूत में ही झड़ गया |