भाभी की चुदासी चूत चोदी

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम विशाल है और में अभी 30 साल का हूँ. मेरे बाजू में एक भाभी रहती है, उसका नाम अनिता है, वो क्या चीज है? उसे कोई भी देखेगा तो वो अपना लंड लेकर उसके पीछे-पीछे जाएगा. अनिता गजब की बला है, उसकी शादी हुए 2 साल हो गये है और अब तक उसको कोई भी बच्चा नहीं है, अनिता का फिगर साईज 42-30-44 है.

में उसे देखता हूँ तो मेरा मन करता है कि उसको अभी इसी वक्त सुलाकर चोद डालूं, लेकिन ऐसा मौका कब मिलेगा? क्या पता? फिर एक दिन मेरी किस्मत खुल गयी. फिर उसने बाजू वाले के लड़के से कहा कि वो जो बाजू वाले साहब है, उनको बुला दो. फिर उस लड़के ने मुझसे कह दिया तो में तुरंत उनके घर गया तो मैंने देखा कि उसका पति घर पर नहीं था. फिर उसने कहा कि हमारे घर की बिजली गयी है तो जरा देख लीजिए, तो मैंने कहा कि ठीक है भाभी. फिर में मीटर बॉक्स की तरफ गया तो मैनें देखा कि मैन स्विच ऑफ था तो मैंने स्विच ऑन कर दिया और लाइट चालू हो गयी.

तभी भाभी बोली कि आप तो कमाल के हो आपने आते ही लाईट चालू कर दी. तो मैंने कहा कि भाभी आप तो मुझसे भी कमाल की हो मैन स्विच तो बंद करके रखा था.

तब भाभी बोली कि नाराज मत होना असल बात ये है कि में आपसे कई दिनों से बात करना चाहती थी, लेकिन मौका ही नहीं मिला और वो मेरे बाजू में आकर बैठ गयी. अब मेरी तो हालत खराब हो गयी थी, अब मेरा लंड खड़ा हो गया था.

फिर वो बोली कि विशाल में आपसे बहुत दिन से एक बात करना चाहती हूँ, क्या आप मुझे चोद सकते हो? अब मेरी तो हवा ही निकल गयी थी, क्या कोई औरत किसी को ऐसा कह सकती है? तो उतने में वो बोली कि क्या सोच रहे हो? तो मैंने कहा कि क्या आप ये सच कह रही हो भाभी? तो भाभी बोली कि हाँ. अब में तो खुश होकर भाभी पर टूट पड़ा और उसको चूमना चालू किया और चूमते-चूमते मैंने अपनी जीभ उसके मुँह में डाल दी, ओूऊऊऊऊऊ क्या गजब का टेस्ट था? जैसे कोई शक्कर खिलाई हो, अब में तो रुकने का नाम ही नहीं ले रहा था.

आहिस्ता-आहिस्ता में उनके बूब्स दबाने लगा, वाउ क्या बूब्स थे? अब में तो पागल हो गया था. अब नीचे से मेरा लंड जो 7 इंच का था, वो झटके खाने लगा था. अब में तो उसको जल्दी-जल्दी चोदना चाहता था, लेकिन अचानक से वो मेरे नीचे बैठ गयी और मेरा खड़ा लंड अपने हाथ में लेकर ऊपर नीचे करने लगी. अब मेरी तो जान ही निकल गयी थी, क्या मुलायम हाथ थे उसके? हाँ मज़ा आ गया. अब वो तो बस मेरे लंड को हिला रही थी, अब में तो आसमान की सैर कर रहा था.

थोड़ी देर के बाद मुझे ऐसा लगा कि मेरा पानी निकलने वाला है तो मैंने भाभी से कहा कि भाभी बस करो मेरा पानी निकलने वाला है.

फिर भाभी बोली कि रूक जाओ, में तुम्हारा पानी अपने मुँह में लेना चाहती हूँ. बस फिर क्या था? भाभी झट से मेरा लंड अपने मुँह में लेकर चूसने लगी. अब मेरी तो जान निकलने लगी थी, हूऊऊऊऊओ भाभी क्या कर रही हो? संभलो मेरा निकलने वाला है. अब भाभी तो और जोर-जोर से मेरा लंड चूसने लगी थी और फिर एक ही झटके में मेरा पानी तूफान की तरह निकल गया. वो नज़ारा ऐसा था कि उसी वक़्त भाभी का मुँह उस झटके के साथ ऊपर उठ गया.

उसने मेरा सारा पानी चाट-चाटकर साफ कर दिया और बोली कि हाआआआआ क्या आराम मिला तुम्हारा पानी पीकर? मेरा दिल खुश हो गया. तो मैंने कहा कि भाभी में भी तुम्हें ऐसा ही मज़ा देना चाहता हूँ. तो वो बोली कि रोका किसने है? तो में झट से उठकर नीचे बैठ गया और भाभी की साड़ी उतारकर उसकी चड्डी को फाड़कर निकाल दिया.

भाभी बोलने लगी कि क्या कर रहे हो? तो मैंने कहा कि भाभी अब मुझे मत रोको नहीं तो में मर जाऊँगा और फिर मैंने झट से भाभी के दोनों पैरो के बीच में आकर उनके दोनों पैर फैलाकर उनकी चूत को देखा तो देखता ही रहा, क्या चूत थी? गुलाबी चूत में लाल-लाल दाना चमक रहा था.

अब में तो उनकी चूत देखकर तो पागल ही हो गया था. अब मुझसे रहा नहीं गया तो में झुककर भाभी की चूत को किसी कुत्ते की तहर चाटने लगा, क्या खुशबू थी? आह में तो बस चाट रहा था और उधर उसकी हालत तो मछली जैसी हो गयी थी. अब वो तड़प रही और कह रही थी क्या कर रहे हो? मेरी तो जान जा रही है, ऐसा लगता था कि उसके पति ने कभी उसकी चूत को चूसा ही नहीं था. अब में तो उसे जन्नत का मज़ा देना चाहता था.

अब में भी पागलों की तरह चूस रहा था और उतने में ही वो इतनी जोर से झड़ गयी कि मेरा पूरा मुँह नमकीन पानी से भर गया. फिर मैंने इतना कीमती पानी खराब नहीं किया और उसका सारा का सारा पानी पी गया. फिर भाभी उठी और मुझे चूमने लगी और कहने लगी कि ओह राजा क्या चूसा है तुमने? आज तक मेरे पति ने भी नहीं चूसा, क्या चूसते हो तुम?

फिर थोड़ी देर के बाद हम बाथरूम में जाकर नहा धोकर वापस बिस्तर पर आ गये. फिर भाभी ने कहा कि क्या तुम मुझे चोदना चाहते हो? तो मैंने कहा कि अरे भाभी इतना होने के बाद भी आप मुझसे पूछ रही हो, में तो तुम्हें हर दिन चोदना चाहता हूँ. तो भाभी बोली कि तो यह बात है तो तुम आज से मुझे भाभी मत कहो अनिता कहो. फिर मैंने कहा कि ओके अनिता जान, अब तो चुदाई करते है क्या ख्याल है? तो भाभी बोली कि क्यों नहीं मेरी जान?

फिर अनिता ने मेरा लंड चूसना चालू कर दिया तो थोड़ी देर में मेरा लंड खड़ा हो गया. फिर मैंने आव देखा ना ताव और सीधा उसके ऊपर चढ़ गया और उसे किस करने लगा और उसके बूब्स दबाने लगा, चूसने लगा. अब वो तो पागल हो रही थी और मेरा लंड अपने हाथ में लेकर खुद ही अपनी चूत पर रगड़ने लगी थी. अब उससे तो बर्दाश्त करना भी मुश्किल हो रहा था. फिर भाभी बोली कि अब देर मत करो, तुम्हारा लंड मेरी चूत में डाल दो वरना में मर जाऊंगी. तो मैंने कहा कि नहीं अनिता रानी तुम मर नहीं सकती, एक ही चुदाई से कोई मरता है क्या?

फिर भाभी ने कहा कि नहीं राजा तुम्हारा लंड इतना बड़ा है कि मेरी तो चूत ही फाड़ डालेगा, प्लीज अब घुसा दो ना तुम्हारा लंड. फिर मैंने भी उसे तड़पाना छोड़कर अपना लंड उसकी चूत के मुँह पर रखकर एक ही झटका दिया, तो वो चिल्ला उठी आराम से राजा क्या मेरी जान ही लोगे क्या? तो फिर में आहिस्ता- आहिस्ता अपने लंड के झटके देने लगा, तो उसे दर्द से कुछ राहत मिली.

मैंने उसके मुँह पर अपना मुँह रखा और किस करने लगा और तभी मैंने नीचे से एक झटका मारा तो मेरा पूरा का पूरा लंड उसकी चूत में समा गया. अब उसकी चीख मेरे मुँह में ही दब गयी थी. फिर में उसे कोई मौका दिए बिना ही चोदता ही गया और में कम से कम उसे 30 मिनट तक चोदता रहा और अनिता की चूत में ही झड़ गया. अब वो तो इतनी खुश हो गयी थी कि अभी वो मुझसे ही चुदवाती है और कभी भी मौका मिला तो मुझसे चुदे बिना नहीं जाती है.