बड़ी भाभी के साथ

हैल्लो दोस्तों, में एक बार फिर से आपके सामने अपनी एक नई और अनोखी स्टोरी के साथ आया हूँ, जिसमें मैंने अपनी बड़ी भाभी के साथ दुबारा फिर से पूरे 5 साल के बाद बंद हुए संबंध फिर से कायम किए. इससे पहले भी में अपनी दो स्टोरी और लिख चुका हूँ. जब मैंने अपनी बड़ी भाभी को पहली बार चोदा था, तब में केवल 19 साल का था और वो मेरी ज़िंदगी की पहली चुदाई थी.

अब में आपको बता दूँ कि मेरी छोटी भाभी के साथ संबंध बनते ही मेरी बड़ी भाभी मुझसे नाराज हो गयी थी और संबंध तोड़ लिए थे और आज मेरी उम्र 24 साल है और इन 5 सालों में मैंने अपनी छोटी भाभी को भरपूर प्यार दिया और अभी तक में अपनी छोटी भाभी को चोदता आ रहा हूँ. इन 5 सालों के अपनी छोटी भाभी के साथ हुआ अनुभव भी में आपके साथ शेयर करूँगा, लेकिन पहले में आपको अपनी बड़ी भाभी की यह मजेदार स्टोरी सुनाना चाहता हूँ.

यह बात केवल 3 महीने पहले की है, जब मेरे लंड को पहली वाली चूत फिर से खाने को मिली जिसे मेरे लंड ने अपनी ज़िंदगी में पहली बार चोदा था. तो अब में आपका वक़्त ख़राब ना करते हुए अपनी स्टोरी पर आता हूँ. ये बात जून की है, भयंकर गर्मी के दिन थे, उन दिनों मेरी वाईफ का 9वां महीना चल रहा था और डिलेवरी होने वाली थी.

तभी मैंने अपनी बड़ी भाभी को मेरी वाईफ की मदद के लिए गाँव से शहर बुलाया. में ग्वालियर में रहता हूँ और मेरी पूरी फेमिली गाँव में रहती है, तो भाभी मेरे साथ आ गयी. फिर मेरी वाईफ भाभी को देखकर बहुत खुश हुई.

अब हम दो कमरो का घर लेकर रह रहे है, एक कमरे में हम तीनों सोते थे और दूसरे कमरे में मेरे दादी और भाभी के बच्चे सोते थे. अब गर्मी होने के कारण हम सभी जमीन पर सोते थे, ताकि थोड़ी ठंडक मिल सके. अब भाभी बीच में सोती थी और हम दोनों पति-पत्नी भाभी के दोनों तरफ सोते थे. फिर 2-3 दिन तो आराम से गुजरे, लेकिन बाद में मेरे मन में उथल-पुथल होने लगी कि में कब भाभी की मक्खन जैसी चूत को चोद पाउँगा?

अब में आपको बता दूँ कि मेरी बड़ी भाभी मेरी छोटी भाभी से भी सेक्सी और चुदासी है, उनकी चूत हमेशा लंड खाने को बेकरार रहती है, क्योंकि ऐसा एक भी दिन नहीं जाता था जब वो भैया से ना चुदे, क्योंकि में कई बार उनकी चुदाई देख चुका था और मैंने उनके कमरे के बाहर से उनकी चुदाई की आवाज़ें सुनी थी इसलिए में ज़ानता था कि भाभी मुझसे जरूर चुदेगी, वो बिना लंड के नहीं रह सकती है इसलिए मुझे सिर्फ़ उनको भड़काने की जरूरत थी और ऐसा ही हुआ.

फिर एक दिन भाभी बहुत गहरी नींद में सो रही थी, वो एकदम सीधी लेटी थी, वाउ वो क्या लग रही थी? उनकी चूची एकदम ऊपर की तरफ तनी हुई और टाँगे फैली हुई थी. अब भाभी को ऐसे पोज में देखकर मेरा लंड खड़ा हो गया था. फिर मैंने अपना एक हाथ भाभी के सीने पर रख दिया और उनकी चूची दबाने लगा. फिर मैंने अपना एक हाथ भाभी की चूत पर रखा हाईईईईईईईईईईईईई उनकी चूत में से एकदम गर्म-गर्म भाप जैसी निकल रही थी और उनकी चूत एकदम फूली हुई पॉव रोटी की तरह मुलायम गद्देदार थी. फिर मुझसे रहा नहीं गया तो में भाभी की साड़ी ऊपर की तरफ खिसकाने लगा और उनकी जाँघो पर अपना हाथ फैरने लगा.

भाभी थोड़ी कसमसाई और अपनी एक टांग मोड़ ली, जिससे उनकी चूत और फैल गयी शीईई, हाईईईईईई. फिर मैंने जैसे ही अपना हाथ उनकी चूत पर रखा, लेकिन भाभी ने पेंटी पहनी हुई थी. फिर मैंने उनकी पेंटी एक साईड में करके अपनी एक उंगली उनकी चूत में डाल दी और अपने एक हाथ से उनकी चूची दबाने लगा.

अब मेरा लंड उनकी चूत में जाने के लिए फटा जा रहा था, अब पूरे 5 साल के बाद मेरे हाथ में वो चूत थी, जिसे मैंने पहली बार चोदा था. फिर मैंने अपनी उंगली आगे-पीछे करनी शुरू कर दी. अब मेरी उंगली उनकी चूत में अंदर बाहर होने लगी थी.

भाभी ने कसमसाकर अपनी दोनों टाँगे फैला दी और अपने दोनों हाथ बिल्कुल ऊपर उठा लिए, जिससे उनकी चूची और तन गयी और चूत तो जैसे बिल्कुल मुँह फाड़कर मेरे लंड को निमंत्रण देने लगी कि आजा मेरे राजा मुझमें समा जा. सच कहूँ तो उस पोज़िशन में भाभी किसी मल्लिका या बिपाशा से कम नहीं लग रही थी, हाईईईईई मेरी रानी. फिर मैंने अपनी एक और उंगली भाभी की चूत में घुसा दी. अब भाभी की चूत में से ढेर सारा पानी निकल रहा था.

अब में एकदम जोश में आ गया था और मैंने अपनी दोनों उंगलियाँ तेज़ी से उनकी चूत में चलानी शुरू कर दी. फिर तभी भाभी जाग गयी और मुझे हैरानी से देखने लगी, लेकिन में मुस्कुराने लगा. फिर वो सो गयी और में भी अपना लंड हिलाकर सो गया. फिर अगले दिन भी वही कहानी दोहराई, लेकिन इस बार मैंने अपनी 3 उंगलियाँ उनकी चूत में डाली थी. फिर 3-4 दिन तक ऐसे ही चलता रहा, लेकिन भाभी ने मुझे चोदने का सिग्नल नहीं दिया, लेकिन मैंने फिर भी भाभी को नहीं छोड़ा और में उन्हें एक दिन चोदकर ही माना.